Basic Shiksha Vibhag ( बेसिक शिक्षा विभाग )

अब गरीब बच्चे भी पढ़ेंगे कॉनवेंट जैसे स्कूलों में, सरकार ने अपग्रेड किए ये 13 प्राथमिक विद्यालय

अब  गरीब बच्चे भी पढ़ेंगे कॉनवेंट जैसे स्कूलों में, सरकार ने अपग्रेड किए ये 13 प्राथमिक विद्यालय

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप जॉइन करने के लिए यहाँ क्लिक करें ।

https://chat.whatsapp.com/GHnVuSXaO4H1PswXAcgCyP

Good News for Noida: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के नोएडा (Noida) जिले के लिए खुशखबरी है। गौतमबुद्ध नगर के 13 प्राथमिक विद्यालयों को जल्द ही अभ्युदय कम्पोजिट विद्यालयों में तब्दील किया जाएगा।

पहले चरण में जेवर में तीर्थली, सबोता मुस्तफाबाद, झुप्पा, जेवर खादर और चिरोली समेत पांच विद्यालयों का चयन किया गया है। जबकि दूसरे चरण में जिले में अन्य आठ प्राथमिक विद्यालयों को विकसित किया जाएगा।

Abhudya school in basic education

स्कूल में चलेंगी स्मार्ट क्लासेस

जानकारी के मुताबिक अभ्युदय कम्पोजिट योजना के तहत कक्षा 1 से 8 तक के प्राथमिक विद्यालयों में स्मार्ट क्लासेस की तर्ज पर सभी तकनीकी और आधुनिक सुविधाएं उपलब्ध करवाई जाएंगी। गौतमबुद्ध बुद्ध नगर की बेसिक शिक्षा अधिकारी ऐश्वर्या लक्ष्मी ने बताया कि अभ्युदय कम्पोजिट विद्यालयों में कक्षा 1 से 8 तक के लगभग 800 विद्यार्थियों के प्रवेश की व्यवस्था की जाएगी। यहां स्मार्ट क्लास की तर्ज पर बच्चों को पढ़ाया जाएगा।

ऐसी होगी इमारत, मिलेंगी ये सुविधाएं

स्कूल सभी आधुनिक सुविधाओं जैसे पुस्तकालय, कंप्यूटर लैब और विज्ञान विषयों के लिए प्रयोगशाला सुविधाओं से लैस होंगे। लगभग 3,000 वर्गमीटर भूमि वाले विद्यालय इस योजना के लिए पात्र होंगे। ऐसे स्कूलों की इमारत पर्यावरण के अनुकूल और भूकंप-रोधी तकनीक से तैयार की जाएंगी।

इसके साथ ही विद्यालयों में मध्यान्ह भोजन, एक भोजन कक्ष, एक रसोई घर, बच्चों के हाथ धोने के लिए स्थान, पेयजल इकाई, एक साइकिल स्टैंड और अन्य वाहनों के लिए पार्किंग की जगह भी होगी। प्रदेश में काफी संख्या में इन स्कूलों को अपग्रेड किया गया है।

बेहतर वातावरण में पढ़ेंगे बच्चे

बताया गया है कि इन स्कूलों को 3.5 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत से तैयार किया जाएगा। यमुना एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (YEIDA) के एक सूत्र के मुताबिक पांच स्कूलों के विकास के लिए निविदा प्रक्रिया जल्द ही शुरू होगी। बेसिक शिक्षा अधिकारी ऐश्वर्या लक्ष्मी ने बताया कि गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देने का प्रयास किया जा रहा है। सभी प्राथमिक विद्यालयों की निगरानी पहले ही बढ़ा दी गई है ताकि बच्चे बेहतर वातावरण में पढ़ाई कर सकें।

Back to top button
%d bloggers like this: