Basic Shiksha Vibhag ( बेसिक शिक्षा विभाग )News ( समाचार )

अब उत्तर प्रदेश के बच्चे पढ़ेंगे चंद्रयान 3 की कहानी, पाठ्यक्रम में शामिल करेगी योगी सरकार

अब उत्तर प्रदेश के बच्चे पढ़ेंगे चंद्रयान 3 की कहानी, पाठ्यक्रम में शामिल करेगी योगी सरकार

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करने के लिए यहां क्लिक करें /

हमारे फेसबुक पेज को ज्वाइन करने के लिए यहां क्लिक करें/

इसरो ने चंद्रयान 3 को चांद के दक्षिणी ध्रुव पर उतारकर पूरे देश को गर्व महसूस कराया है। भारत की इस ऐतिहासिक उपलब्धि की चर्चाएं पूरी दुनिया में हो रही हैं। देश की इस गौरव गाथा के बारे में हर बच्चा जान सके और आने वाली पीढ़ी भी इससे परिचित हो सके, इसलिए अब बच्चों को चंद्रयान 3 की सफलता के बारे में पढ़ाए जाने की तैयारी हो रही है।

खबर में आगे पढ़ें…

  • बच्चे पढ़ेंगे चंद्रयान के सफल मिशन की कहानी
  • यूपी के पाठ्यक्रम में चंद्रयान की कहानी को जोड़ा जाएगा
  • माध्यमिक शिक्षा मंत्री गुलाब देवी ने दी जानकारी

पाठ्यक्रम में शामिल होगी गौरव गाथा

दरअसल, चंद्रयान 3 की कहानी को उत्तर प्रदेश के पाठ्यक्रम में शामिल करने का फैसला लिया गया है। इसे पाठ्यक्रम में इतिहास विषय का हिस्सा बनाया जाएगा। यूपी की माध्यमिक शिक्षा मंत्री गुलाब देवी ने यह जानकारी दी है।

माध्यमिक शिक्षा मंत्री गुलाब देवी ने कहा कि वैज्ञानिकों की इस उपलब्धि से भारत का नाम पूरी दुनिया में रोशन हुआ है। बच्चों को इस विषय में पूरी जानकारी मिल सके, इसलिए इसे पाठ्यक्रम में शामिल किया जाएगा। बच्चों को इससे सीखने को मिलेगा।

चंद्रयान 3 की सफलता की कहानी पढ़कर बच्चे इसके बारे में जान सकेंगे और आने वाली पीढ़ी भी इसके बारे में पढ़कर गौरवान्वित महसूस करेगी। इसलिए इसे पाठ्यक्रम में जोड़ना एक अच्छा कदम की तरह देखा जा रहा है।

चंद्रयान 3 ने रखा चांद पर कदम और रच दिया इतिहास

गौरतलब है कि 23 अगस्त को शाम 6 बजकर 4 मिनट ही वो ऐतिहासिक क्षण था, जब पूरा देश एक साथ खुशी से झूम उठा था। इसी क्षण पर चंद्रयान 3 ने चांद पर सफलतापूर्वक लैंडिंग की थी। इसके साथ ही इसरो ने वो कारनामा कर दिखाया जो आज तक कोई नहीं कर सका। चांद के दक्षिणी ध्रुव पर पहुंचने वाला भारत पहला देश बन गया।

इसके साथ ही चंद्रमा पर सॉफ्ट लैंडिंग करने वाला भारत चौथा देश बना था। पहले सिर्फ सोवियत संघ (रूस), अमेरिका और चीन ही चांद पर सॉफ्ट लैंडिंग करने में सफल हुए हैं। अब भारत ने भी यह कारनामा कर दिखाया है। भारत की इस उपलब्धि की वाहवाही पूरी दुनिया कर रही हैं।

Back to top button
%d bloggers like this: